Showing posts with label Share markets. Show all posts
Showing posts with label Share markets. Show all posts

Sunday, February 21, 2021

कैसे आप शेयर बाजार में किसी भी शेयर में अपने मुनाफे को अधिक करते है।

शेयर बाजार में अपने लॉस को कैसे कम करे

शेयर बाजार का व्यापार करने में, किसी के पास जादू की छड़ी नहीं है।  शेयरों की कीमत नीचे जा सकती है और साथ ही ऊपर भी।  क्या जरूरत है आपको एक बाहर निकलने की रणनीति जो आपको बुरे शेयरों से बचने और अच्छे शेयरों में अच्छा लाभ कमाने में सक्षम बनाएगी।



१ स्टॉपलॉस लगाने का तरीके

    सबसे अच्छा काम करने के लिए मैंने जो तरीका खोजा है, वह है स्टॉपिंग लॉस  लगाना।  उन लोगों के लिए जो स्टॉप लॉस नहीं जानते हैं, मैं संक्षेप में बताऊंगा।  एक स्टॉप लॉस आपके शेयर ब्रोकर के लिए एक ऑर्डर है कि आप अपने शेयर बेच सकते हैं, यदि मूल्य आपके द्वारा निर्धारित स्तर से घटता है।

 इसे करने के दो तरीके हैं।  सबसे सरल तरीका यह तय करना है कि आप अपने निवेश के प्रतिशत के रूप में कितना खोने को तैयार हैं।  एक अच्छा नियम 10% से कम नहीं होना चाहिये।  इस स्तर पर स्टॉक की कीमत पर काम करें और इसे अपने स्टॉप लॉस के रूप में सेट करें।  जैसे ही स्टॉक की कीमत बढ़ती है, स्टॉपलॉस के स्तर को आगे बढ़ाते रहें जिससे प्रतिशत अंतर समान रहे।  कुछ ब्रोकर एक ट्रेलिंग स्टॉप लॉस सर्विस प्रदान करते हैं, जहां आप उन्हें बताते हैं कि नुकसान को सेट करने के लिए क्या प्रतिशत है और वे आपके लिए करते हैं।


२ Nikolash Darvash नियम

   दूसरी विधि थोड़ी अधिक जटिल है, और "Nikolash Darvas" से उनकी पुस्तक "स्टॉक मार्केट में मैंने $ 2,000,000 कैसे कमाए" से आता है।  बाजार चरणों में प्रवाहित होते हैं।  वृद्धि पर एक स्टॉक एक चरम पर पहुंच जाएगा, और फिर वापस नीचे डुबकी लगायेगा।  यह प्रत्येक चरण में कई बार हो सकता है।  स्टॉक के चार्ट का पालन करना है और देखना है कि डिप्स सबसे कम कहां हैं, और स्टॉप लॉस को उनके ठीक नीचे सेट करें।  एक दूसरा हिस्सा जो निकोलस ने प्रचारित किया है कि जब स्टॉक को अधिक स्टॉक खरीदने के लिए बग़ल में चलन से बाहर कर दिया जाता है, और जब स्टॉक फिर से बग़ल में जाने लगता है, तो स्टॉप लॉस को फिर से डिप के सबसे निचले हिस्से से नीचे ले जाने के लिए।

३ शेयर से बाहर निकलने की रणनीति

       बाहर निकलने की रणनीति के रूप में स्टॉप लॉस का उपयोग करना, केवल उसी समय काम करता है जब आप उससे चिपके रहते हैं, और इसे कम नहीं करते हैं, यह सोचकर कि कीमत कुछ दिनों में फिर से बढ़ जाएगी।  कुछ मामलों में आप सही होंगे, लेकिन आमतौर पर ऐसा होता है कि आपका अनुमान से खिलाफ चलती रहती है, और आप और भी अधिक पैसे खो देते  हैं।  इसके लिए एक माध्यमिक के रूप में, अभी भी गिर रहे पहले स्टॉक में लगे धन को दूसरे शेयर में उपयोग नहीं किया जा सकता है।

४ अपने जोखिम को कम करे

 अंत में, अपनी पूंजी की सुरक्षा के लिए स्टॉप लॉस सिस्टम का उपयोग करना ही बुद्धिमानी है।  ऐसे समय होते हैं, जब बाजार में तेजी से गिरावट आती है, ऐसे नियम होते हैं कि एक दिन में कितनी कीमत गिर सकती है।  यदि यह इस अधिकतम दूरी पर गिरता है, तो यह आपके स्टॉप लॉस को बायपास कर सकता है, और आप बेचने में असमर्थ हो सकते हैं।  हालांकि ये स्थितियां दुर्लभ हैं, लेकिन बेहतर है कि आप उनके बारे में जानें।  ताकि जब वे ( स्टॉपलॉस ) आपके साथ होते हैं, तो आपको झटका न लगे।


Saturday, January 16, 2021

लाभदायक स्टॉक चुनने के लिए 3 विधियाँ

 स्टॉक चुनना एक बहुत ही जटिल प्रक्रिया है और निवेशकों के पास अलग-अलग अपना अनुभव हैं।  हालांकि, निवेश के जोखिम को कम करने के लिए सामान्य विधि का पालन करना बुद्धिमानी है।  यह लेख उच्च प्रदर्शन वाले शेयरों को चुनने के लिए इन बुनियादी विधि की रूपरेखा तैयार करेगा।


विधि 1. 

समय सीमा और निवेश की सामान्य नियम पर निर्णय लें।  यह कदम बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपके द्वारा खरीदे जाने वाले शेयरों के प्रकार को निर्धारित करेगा।

 मान लीजिए कि आप दीर्घकालिक निवेशक बनना चाहते हैं, तो आप ऐसे शेयरों को ढूंढना चाहेंगे, जिनमें स्थिर विकास के साथ-साथ स्थायी प्रतिस्पर्धी लाभ हों।  इन शेयरों को खोजने की कुंजी पिछले दशकों में प्रत्येक स्टॉक के ऐतिहासिक प्रदर्शन को देखकर है और एक साधारण व्यवसाय S.W.O.T करते हैं।  (शक्ति-कमजोरी-अवसर-खतरा) कंपनी पर खोज।

 यदि आप अल्पकालिक निवेशक बनना चाहते हैं, तो आप निम्नलिखित में से एक नियम का पालन करना होगा।

 १ :  मोमेंटम ट्रेडिंग 

यह रणनीति उन शेयरों की तलाश करना है, जो हाल के दिनों में मूल्य और मात्रा दोनों में वृद्धि करते हैं।  अधिकांश तकनीकी नियम इस ट्रेडिंग रणनीति का समर्थन करते हैं।  इस रणनीति पर मेरी सलाह उन शेयरों की तलाश करना है जिन्होंने अपनी कीमतों में स्थिर और  वृद्धि का प्रदर्शन किया है।  यह विचार यह है कि जब स्टॉक अस्थिर नहीं होते हैं, तो आप केवल ट्रेंड के टूटने तक अप-ट्रेंड की सवारी कर सकते हैं।

 २.  विपरीत नियम 
यह नियम शेयर बाजार में अति-प्रतिक्रियाओं की तलाश है।  शोध बताते हैं कि शेयर बाजार हमेशा कुशल नहीं होता है, जिसका मतलब है कि कीमतें हमेशा शेयरों के मूल्यों का सही प्रतिनिधित्व नहीं करती हैं।  जब कोई कंपनी एक बुरी खबर की घोषणा करती है, तो लोग घबराते हैं और कीमत अक्सर स्टॉक के उचित मूल्य से नीचे चली जाती है।  यह तय करने के लिए कि किसी समाचार पर स्टॉक ओवर रिएक्ट किया गया है, आपको बुरी खबर के प्रभाव से उबरने की संभावना को देखना चाहिए।  उदाहरण के लिए, यदि स्टॉक 20% गिर जाता है, तो कंपनी एक कानूनी मामला खो देती है, जिसमें व्यवसाय के ब्रांड और उत्पाद को कोई स्थायी नुकसान नहीं होता है, तो आपको विश्वाश हो सकते हैं कि बाजार में उथल-पुथल।  इस रणनीति पर मेरी सलाह उन शेयरों की एक सूची ढूंढना है जिनकी कीमतों में हालिया गिरावट है, एक प्रत्यावर्तन (कैंडलस्टिक विश्लेषण के माध्यम से) की क्षमता का विश्लेषण करें।  यदि स्टॉक कैंडलस्टिक रिवर्सल पैटर्न को प्रदर्शित करते हैं, तो मैं हाल की खबरों के माध्यम से हाल ही में बिकने वाले अवसरों के अस्तित्व का निर्धारण करने के लिए हाल की कीमत की गिरावट के कारणों का विश्लेषण करने के लिए जाऊंगा।



 विधि 2. 

आचरण शोध जो आपको उन शेयरों का चयन करते हैं, जो आपके निवेश समय सीमा और रणनीति के अनुरूप हैं। web पर कई स्टॉक स्क्रीनर हैं जो आपकी आवश्यकताओं के अनुसार स्टॉक खोजने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

विधि 3. 

एक बार जब आपके पास खरीदने के लिए शेयरों की एक सूची होगी, तो आपको उन्हें इस तरह से विविधता लाने की जरूरत होगी जो सबसे बड़ा इनाम , जोखिम अनुपात देता है।  ऐसा करने का एक तरीका आपके पोर्टफोलियो के लिए एक diversified विश्लेषण है।  विश्लेषण आपको धन का अनुपात देगा जो आपको प्रत्येक स्टॉक को आवंटित करना चाहिए।  यह कदम महत्वपूर्ण है क्योंकि विविधीकरण निवेश की दुनिया में मुफ्त-लंच में से एक है।

 शेयर बाजार में लगातार पैसा बनाने के लिए आपको अपनी खोज में इन तीन चरणों को ध्यान रख कर शुरू करना चाहिए।  वे वित्तीय बाजारों के बारे में आपके ज्ञान को बढ़ाएंगे, और विश्वास की भावना उत्पन्न करेंगे, जो आपको बेहतर व्यापारिक निर्णय लेने में सहायता करता है।

Saturday, August 10, 2019

शेयर मार्केट की जानकारी

    What is share market (शेयर मार्केट क्या है)
पैसा कमाने के लिए बहुत से लोगों की इच्छा रहती है, और तरह तरह के बिज़नेस आईडिया की जानकारी प्राप्त कर लोग पैसा कमाते है। हर किसी इन्सान की इच्छा होती है कि वह अमीर बने और अपने जीवन मे बहुत सारे धन कमाये आज हम इन्हीं सब बातों के बारे में जानकारी देंगे।

शेयर मार्केट क्या है :- शेयर का अर्थ होता है प्रतिभूति या अंश। जब कोई उधोगपति कोई बड़ा कम्पनी खोलता है, तो बहुत सारे धन की आवश्यकता होती है । वह पचास प्रतिशत शेयर अपने पास रखकर बाकी शेयर वह आमलोगों के लिये इशू कर देते है जिससे कंपनी को आसानी से धन इकठ्ठा हो जाता है।

                                    अपने भारत मे दो एक्सचेंज है , जिससे आप शेयर की खरीद और बिक्री कर सकते है। उनका नाम NSE और BSE है। आप लोग उसमे सीधे निवेश नही कर सकते है। उसके लिए दलालों की आवयश्कता होती है। भारत मे बहुत से दलाल है जो शेयर की खरीद बिक्री का काम करवाते है।

शेयर बाजार के बारे में बहुत से लोगों के मन मे भरम होता है, यह सट्टा बाजार है इसमें लोगों का पैसा डूब जाता है लोग बर्बाद हो जाते हैं।यह उनकी मनगढंत है। आप अपनी सूझ बूझ से शेयर बाजार में बहुत सारे पैसा कमा सकते है।

शेयर बाजार में कैसे निवेश करें :-

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए सबसे पहले आपके बैंक में बचत खाता होना जरूरी है और साथ मे पैन कार्ड भी जरूरी है। यह दोनों कागज के बगैर आप इसमें खाता नही खोल सकते है। उसके बाद आप को डिमैट खाता और ट्रेडिंग खाता दलाल के पास खुलवाना पड़ेगा , तब जाकर आप किसी भी कंपनी के शेयर की खरीद बिक्री कर सकते है।

आजकल अपने देश  मे बहुत से सारे ब्रोकरेज है जो डिमैट और ट्रेडिंग एकाउंट खोल के देते है । कुछ फुल ब्रोकरेज है और कुछ डिस्काउंट ब्रोकरेज है। आप इनमें किसी मे भी एकाउंट खुलवा सकते है। इसमें कोई डर की बात नही है क्योकि जिसतरह सभी बैंकों को RBI रेगुलेट करती है उसी प्रकार शेयर बाजार को SEBI (Securities and Exchange Board of India) रेगुलेट करती है। आपके साथ कोई धोखा होने वाला नही हैं।
पहले से अभी शेयर खरीदना एकदम आसान हो गया है, आपके पास लैपटॉप और इंटरनेट की आवश्यकता होती है।आजकल ब्रोकरेज हाउस aap भी उपलब्ध करा देते है ,जिससे आप इंटरनेट के जरिये निवेश शेयर में कर सकते है।

आप शेयर बाजार में निवेश कैसे करे :- जब आपका डिमैट और ट्रेडिंग एकाउंट खुल जाता है तो आप अपने ब्रोकरेज के द्वारा आप किसी भी कम्पनी के शेयर को आर्डर प्लेस कर सकते है। वह ब्रोकरेज हाउस आपके आर्डर को एक्सचेंज में आर्डर प्लेस कर देगा और आप इसतरह शेयर खरीद सकते है और जब आपका शेयर प्रॉफिट में होगा तो फिर इसीतरह आप सेल का आर्डर लगा देंगे और बाजार में आपकी आर्डर पर खरीदार रहेंगे तो आपका शेयर बिक्री हो जाएगा।

शेयर बाजार में जैसे पैसा बहुत जल्दी कमाया जाता है , उतना ही पैसा आप जल्दी गवा भी सकते है। इसलिए शेयर बाजार में निवेश के पहले आपको बाजार की जानकारी करनी पड़ती है ,तभी आप निवेश शुरू करे।

१ :- पहले सीखे : कोई भी काम होता है हम करने के पहले उसके बारे में जानकारी करते है तभी उस काम को करते है।

                  इसीप्रकार शेयर बाजार में निवेश करने के पहले शेयर बाजार के बारे में जाने समझे और फिर निवेश करें।

२ :- अपने रिस्क को समझें : शेयर बाजार थोड़ा रिस्की होता है। आप उतना ही इसमें पैसा निवेश करे की अगर आपको लॉस हो तो आप उतना वहन कर सके । इसमे वही पैसा निवेश करें जो आप निवेश कर के भूल जाये।

३ :- अपना खुद का रिसर्च करे : बहुत से लोग tv पर मार्केट एक्सपर्ट की बात शुन शेयर खरीदने लगते है,हो सकता हो कुछ उनकी रिसर्च सही हो, अगर इतना ही सही होता उनका रिसर्च तो वह खुद शेयर खरीद कर अमीर ना बन जाते।

आप समझ गए होंगे मैं क्या आपको बताया हो सके तो कोई भी कंपनी हो पहले आप कंपनी का कारोबार क्या है, कौनसा प्रोडक्ट तैयार करती है, उसका फाइनेंसियल कंडीशन क्या है , कही कर्जे में तो कंपनी नही आदि सब जानकारी इकठ्ठा कर कर ही शेयर खरीदे।

४ :- शेयर मार्केट के प्रारंभिक जाकारी को समझिये : जैसे किसी भी कोर्स का सब्जेक्ट होता है उसी तरह शेयर मार्केट के कुछ प्रारंभिक जरकारी होती है पहले उनको समझे फोर शेयर में निवेश कर।

इस तरह आप एक सफल इन्वेस्टर बन सकते है।

५ :- अपने भावना को नियंत्रित रखे : शेयर मार्केट में बहुत बार होता है कि कही से कुछ जानकारी मिली और तुरंत लोग निवेश कर देते है उसमें उनको भारी नुकसान होता है  शेयर बाजार में अपने भावना को नियंत्रित रखना पड़ता है।

           तभी जाकर आप एक सफल निवेशक बन सकते है।

६ :- अपने इन्वेस्ट को डाइवर्सिफाइड करे : शेयर मार्केट में अपना सभी पैसा एक कंपनी के शेयर में नही लगाना चाहिए ।आप अपने पूंजी को अलग अलग सेक्टर के शेयर में अपना पैसा इन्वेस्ट करे, इससे यह होगा की अगर कोई शेयर में आपको लॉस हो रहा होगा फिर भी आपके पूँजी पर असर नही पड़ेगा।

७ :- निवेश का लम्बा नजरिया रखे : आप अच्छी तरह समझ ले कि आपका निवेश का नजरिया जो है वह लंबे अवधि का होना चाहिये क्योंकि लंबे अवधि में ही आपको अच्छा लाभ होगा।

शेयर बाजार में बहुत से ऐसे शेयर है जो लंबे अवधि के लिए लिए निवेश हुआ है और वह अच्छा लाभ दिया है।

             ये थी कुछ शेयर बाजार की जानकारी जो आपके शेयर बाजार के सफर में आपको मदद करेगी। मैं पुआ कोसिस किया हु शेयर मार्केट की जानकारी आप को मेरे द्वारा दी गई पसन्द आएगी।
अगर हमसे कोई त्रुटि हो गई हो या कोई विषय छुट गया हो तो आप कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट कर जानकारी प्राप्त कर सकते है।
मेरे द्वारा शेयर मार्केट की जानकारी यह सिर्फ basic है जिससे आपको जो doubt है आज cleaer हो जायेगा ।

General tips